What is Vitamin B6 in Hindi -विटामिन B6 के स्रोत और फायदे

What is Vitamin B6 :- विटामिन B6 विटामिन समूह का पांचवा सबसे महत्ब्पूर्ण विटामिन है | विटामिन B6 शरीर के लिए बहुत लाभदायक होता है | अन्य विटामिन की तरह विटामिन B6 भी पानी में घुलनशील होते है | मेडिकल भाषा में विटामिन B6 को “पायरीडॉक्सिन “ के नाम से भी जानते है |

यह मानसिक कार्यो, तंत्रिका कार्यो , लीवर , त्वचा और आंख सहित अन्य अंगो को स्वस्थ्य रखने एवं शारीरिक उर्जा के स्तर बनाये रखने में मदद करता है | तो आइये जानते है की विटामिन B6 के स्रोत ?

यह भी पढ़े :- क्यों जरुरी होता है विटामिन B5 ? (आइये जानते है )

विटामिन B6 क्या है ? what is vitamin B6 in Hindi

विटामिन B6 ऐसा विटामिन समूह का ऐसा विटामिन है जो अन्य विटामिन की तरह पानी में घुलनशील है | यह विटामिन शरीर के बहुत उपयोगी होता है |इस विटामिन ह्रदय रोगी को ठीक करने में काफी मददगार साबित होता है| विटामिन B6 के द्वारा आप एनीमिया से बचा जा सकते है |साथ ही साथ आंख औरत्वचा के लिए भी बहुत फायदेमंद होता है |विटामिन B6 शारीरिक उर्जा के स्तर में वृद्धि करने का काम करता है | विटामिन B6 के कई और काम है जो निम्न प्रकार से है –

  • कार्बोहाइड्रेट , वसा और प्रोटीन को भोजन से प्राप्त करने का कार्य करता है
  • यह शरीर में उपस्थित हिमोग्लोबिन को भी बढ़ाने का काम करता है
  • विटामिन B6 रक्त में मौजूद ऑक्सिजन को उतकों तक पहुचाने का कार्य करता है |
  • विटामिन B6 तंत्रिका तंत्र की प्रक्रिया में भी सहायकमाना जाता है |

विटामिन B6 के स्रोत – Sources of vitamin B6 in Hindi

विटामिन B6 की sources की बात करे तो ये भोजन के द्वारा आसानी से प्राप्त किया जा सकता है | इसके अलावा आप मेडिसिन के रूप में विटामिन B6 प्राप्त कर सकते है | खाद्य पदार्थ के द्वारा हम विटामिन B6 प्राप्त कर सकते है जिसे आगे बताया जा रहा है –

  1. मछली :- “सैलमन मछली” मछली की ऐसी प्रजातियाँ होती है जिसमे विटामिन B6 अत्यधिक मात्रा में पाई जाती है |इस मछली में विटामिन B6 के अलावा अन्य पोषक तत्व एवं प्रोटीन भी भरपूर मात्रा में पाया जाता है |विटामिन B6 टूना मछली में भी काफी अच्छा पाया जाता है |इसीलिए टूना मछली को विटामिन B6 प्रदान करने वाली मछली कहा जाता है |
  2. मटर :- मटर भी विटामिन B6 का अच्छा स्रोत माना जाता है | मटर में विटामिन B6 के अलावा विटामिन A , विटामिन C और फाइबर भी पाया जाता है |मटर को आप आसानी से प्राप्त कर सकते है |अपने आहार में मटर को शामिल करके इसके कमी से होने वाले रोगों से बचा जा सकता है |
  3. केला :- केला विटामिनB6 का स्रोत माना जाता है | केला की सेवन से आप तंत्रिका और मस्तिष्क को स्वस्थ्य रख सकते है , क्यूंकि केला के सेवन से हार्मोन्स का निर्माण होता है |
  4. दूध :- दूध में विटामिन B6 के अलावा कई तरह के पोषक तत्व पाए जाते है जो शरीर की आवश्यकताओ को पूरा करता है |दूध लगभग हर घर में लाया जाता होगा | विटामिन B6 की पांच परसेंट आप गाय या बकरी की दूध से पूरा कर सकते है | बकरी और गाय के दूध से आप विटामिन B12 और कैल्सियम भी प्राप्त कर सकते है |
  5. गाजर :- गाजर में विटामिन B6 की मात्रा पाई जाती है | एक कप दूध से आप जितना विटामिन B6 प्राप्त करते है उतना विटामिन एक गाजर खाकर प्राप्त कर सकते है | गाजर को आप कच्चा या पकाकर भी खाया जाता है | गाजर में विटामिन B6 क्ले अलावा फाइबर और विटामिन A अत्यधिक मात्रा में पाई जाती है |

और भी बहुत सारे ऐसे खाद्य पदार्थ और भी है जिसमे विटामिन B6 की भरपूर मात्रा पाई जाती है |जो निचे बताया गया है –

  • शलजम
  • पालक
  • अंडे
  • चिकन
  • शरकंद
  • सूरजमुखी के बीज
  • शिमला मिर्च

विटामिन B6 के फायदे – Benefits of vitamin B6 in Hindi

विटामिन B6 शरीर के लिए बहुत उपयोगी होता है | पर्याप्त मात्रा में विटामिन B6 लेने से शरीर को कई तरह के फायदे होते है जिसे निचे बताया गया है |

  1. मस्तिष्क के कार्यो में सहायक :- मस्तिष्क के कार्यो के लिए विटामिन B6 बहुत महत्ब्पूर्ण होता है | अध्ययन से पता चला है की विटामिन B6 की कमी से मस्तिष्क में याददाश्त सम्बन्धी रोग उत्पन्न हो जाते है |होमोसिस्तन के स्तर को मस्तिष्क के कार्यो को नियंत्रित करने में विटामिन B6 उपयोगी सिद्ध होता है | होमोसिस्तन एक ऐसा बीमारी है जो मस्तिष्क और ह्रदय रोगों के अलावा तंत्रिका तंत्र पर भी बुरा प्रभाव पड़ता है |विटामिन B6 के द्वारा आपके शरीर में उत्पन्न हार्मोन्स आपके मूड , उर्जा और एकाग्रता को बनाये रखता है |
  2. मूड ठीक करने में :- विटामिन B6 एक दावा की तरह कार्य करता है जिसके द्वारा मस्तिष्क में सेरोटोनिन के स्तर को बढाता है |रिसर्च में पता चला है की मस्तिष्क में सेरोटोनिन और अन्य संकेतो को विटामिन B6 प्रभावित करता है |मूड को ठीक करने , चिंता दूर करने , दर्द , थकान आदि दूर करने का कार्य सेरोटोनिन करता है | साथ ही साथ मस्तिष्क में हार्मोन्स सम्बन्धी और उर्जा के स्तर में आ रही कमी को विटामिन B6 की की दवा लेकर संतुलित किया जाता है |
  3. आँखों को स्वस्थ्य रखने में :- आँखों में किसी प्रकार के रोग का होना ख़राब भोजन और पोषक तत्व की कमी की दर्शाता है | शोध में पता चला है की आँखों में किसी प्रकार की समस्या होना या कम दिखाई देना विटामिन B6 के साथ अन्य विटामिन के साथ देकर समस्या से बचाया जा सकता है |बढती उम्र में मैकुलर डीजेनेरशन नामक रोग जो आँखों में होता है , विटामिन B6 की प्राप्त मात्रा में लेने से दूर किया जा सकता है |
  4. एनीमिया के बचाव में :- विटामिन B6 खून में हिमोग्लोबिन बनाने का कार्य करता है |हिमोग्लोविन के द्वारा लाल रक्त कोशिकाओ के माध्यम से शरीर के अन्य हिस्से में को ऑक्सीजन और आयरन ले जाने में मदद करता है | शरीर में जब एनीमिया रोग हो जाति है तब लाल रक्त कोशिकाए प्राप्त मात्रा में नहीं बन पति है जिससे थकान , दर्द जैसे लक्षण दिखाई देने लगते है | अध्ययन में पता चला है विटामिन B6 की सही मात्रा में लेने से एनीमिया जैसी बीमारी से बचा जा सकता है |

विटामिन B6 की कमी के लक्षण और नुकसानDeficiency symptoms of vitamin B6 in Hindi

विटामिन B6 शरीर के जरुरत के अनुसार लेनी चाहिए | भोजन के द्वारा प्राप्त विटामिन B6 हानि नहीं करता है लेकिन अगर विटामिन B6 की मात्रा बढ़ जाये या कमी आ जाये तो परेशानी बढ़ जाती है | कुछ ऐसे लक्षण है जो विटामिन B6 की अधिक मात्रा या कम मात्रा निचे बताया गया है |

  • अधिक मात्रा के कारण धुप में त्वचा का जल जाना |
  • शरीर के अंग सुन्न पड़ जाना |
  • थकान , दर्द जैसी लक्षण दिखाई देना |
  • त्वचा पर घावों का होना |
  • सिने में जलन और उल्टी जैसे लक्षण होना | आदि

इसीलिए जब कुछ भी ऐसे लक्षण दिखाई दे तो तुरंत्त डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए और डॉक्टर के द्वारा बताये गए विटामिन B6 युक्त दवा का सेवन करना चाहिए |

निष्कर्ष :- प्रिय पाठको , मैं आशा करता हूँ की आपको मेरी यह पोस्ट Sources of Vitamin B6 in Hindi -विटामिन B6 के स्रोत ,फायदे और कमी के लक्षण काफी पसंद आई होगी | मेरी यह पोस्ट आपको अगर पसंद आई होगी तो आप इसे like करे, अपने दोस्तों में , फॅमिली में और ग्रुप में शेयर करे ताकि उन्हें भी ये जानकारी मिल सके | इस तरह की और जानकारी के लिए आप मेरे www.24hourhindi.in को जरुर विजिट करे |

अस्वीकरण :- इस site पर उपलब्ध सभी जानकारी और लेख केवल शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए है | यहाँ पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार हेतु बिना विशेषज्ञ की सलाह के नहीं किया जाना चाहिए | उपचार के लिए योग्य चिकित्सक का सलाह ले |

धन्यबाद !!!

Leave a Comment