Symptoms of arthritis in Hindi – गठिया के हो सकते है कई कारण

 18 total views,  2 views today

Symptoms of arthritis:- गठिया एक ऐसी बीमारी है जो बहुत सारे में देखने को मिल जाते है | लगभग भारत में 180 मिलियन लोग इस गठिया की समस्या से परेशान है | यह गठिया बीमारी पुरुषो की अपेक्षा महिलाओ में ज्यादा देखने को मिलते है | एक अध्ययन में पता चला है की गठिया का सही तरीके से इलाज न कर पाने के कारण उनमे अन्य बीमारी जैसे – टीबी मधुमेह होने का खतरा बढ़ जाता है |

Arthritis को आम बोलचाल की भाषा में गठिया के नाम से जाना जाता है | गठिया का मतलब ऐसी बीमारी से है जिसमे व्यक्ति को हड्डी या जोड़ो में दर्द के साथ साथ सुजन आ जाता है | गठिया रोग की भी सामान्य व्यक्ति के लिए चिंता का विषय बन जाता है क्यूंकि इस बीमारी में असहनीय दर्द से गुजरना पड़ता है | अगर आप Symptoms of arthritis गठिया के बारे में और अधिक जानकारी पूर्ण रूपेण से प्राप्त करना चाहते है तो आप इस लेख

यह भी पढ़े :- किशमिश खाने के अद्भुत फायदे जिससे कई समस्या हो सकती है छू मंतर |

Content :

  1. गठिया क्या है ? What is arthritis ? in Hindi
  2. गठिया के लक्षण – Symptoms of arthritis in Hindi
  3. गठिया के लिए घरेलु उपाय और उपचार
  4. गठिया के लिए दवाइयां – Medicine for Arthritis

गठिया क्या है ? What is arthritis ? in Hindi

गठिया एक ऐसी बीमारी से है जिसमे व्यक्ति को हड्डी या जोड़ो में दर्द के साथ साथ सुजन आ जाता है | लोगो के बीच पाए जाने वाला गठिया के कई प्रकार पाए जाते है | गठिया के कारण हड्डियों के कोदो में दर्द और अकडन रहती है और उम्र के साथ साथ और तेज़ होती चली जाती है | अधिकांशतः गठिया बृद्ध में जिसका उम्र 50+ हो गया हो , में तथा शायद ही कभी कभी बच्चो में देखने को मिल जाती है | पुरुषो में गाउट ( gout ) नामक गठिया रोग पाए जाते है | मोटापा भी गठिया रोग का एक मुख्य कारण है | गठिया रोग अतिरिक्त बजन वाले लोगो में सबसे ज्यादा पाए जाते है |

गठिया के लक्षण – Symptoms of arthritis in Hindi

हम और आप ये कैसे पता लगा सकते है की किस तरह से हमारा शरीर आर्थराइटिस से प्रभावित है | आर्थराइटिस ( Arthritis ) के कई प्रकार के लक्षण देखने को मिले है | इसमें सबसे प्रमुख लक्षण जोड़ो में दर्द , जकड़न और सुजन जैसी लक्षण देखने को मिले है | साथ ही साथ आपके शरीर के संधि शोध के दौरान गठिया से प्रभावित अंग लाल पड़ने लग जाते है | इससे आपके टहलने और चलने की गति कम पड़ जाती है |

गठिया के दर्द और लक्षण शरीर के घुटने , कुल्हे , कंधे , हाथ , पैर या शरीर के किसी भी अंग में इसके दर्द का अनुभव कर सकते है | गठिया के एक प्रकार रुमेटी गठिया में आपको थकान की शिकायत हमेशा बनी रहती है | यह हमारे शरीर की सुरक्षा प्रणाली को कमजोर कर देता है जिससे सुजन जैसी स्थिति उत्पन्न हो जाती है | सुजन की बजह से कभी कभी आप भूख की कमी को भी महसूस कर सकते है |

अगर गठिया में रुमेटी गठिया का सही समय पर इलाज नहीं कराया जाए तो हमारे शरीर की जोड़ो को ख़राब होने का खतरा बना रहता है | गठिया में शरीर के हाथ और पैर में गांठे निकल आती है और अगर सही समय पर इसका इलाज नहीं करवाया गया जाए तो यह गंभीर बीमारी का रूप ले लेती है | जिसके कारण आपको छत पर चढ़ना , कंघी करना आदि में काफी परेशानी का सामना करना पड़ सकता है |

गठिया के लिए घरेलु उपाय और उपचार

अगर आपके शरीर के कुल्हे, जोड़ो , कंधे , घुटने या शरीर के किसी के किसी हिस्से में बिना बजह के दर्द शुरू हो जाये तो आप साबधान हो जाइये , आप गठिया के शिकार हो चुके है | गठिया के सामान्य बीमारी है जो आपके सामने कई रूपों में आ सकती है | कभी कभी इससे तकलीफ इतना बढ़ जाती है की आपको चलने फिरने में बहुत कठिनाई होना शुरू हो जाती है | ज्यादातर यह समस्या जवानी के बाद आना शुरू हो जाती है लेकिन आजकल यह समस्या कम उम्र के लोगो में भी देखने को मिल जाते है |

गठिया होने का सबसे मुख्य कारण शरीर में यूरिक acid का बढ़ जाना | जब शरीर में यूरिक अम्ल बढ़ जाता है तब या छोटे छोटे रूप में जमा होने लगता है और इस जमाव के कारण जोड़ो में दर्द उत्पन्न हो जाती है जिसके चलते उठने , बैठने , टहलने में परेशानी आ जाती है | गठिया का प्रभाव घुटनों, उंगलियों , कलाइयों, कंधो, केहुनी आदि में दिखाई पड़ने लग जाता है | गठिया को ठीक करने के लिए बाजार में कई तरह के दवाई उपलब्ध है लेकिन कुछ ऐसे घरेलु नुस्के भी है जिसे अपनाकर आप गठिया का उपचार कर सकते है |

पानी

पानी हमारे शरीर के लिए बड़े काम का होता है , यह acid की मात्रा को संतुलित करता है | इसीलिए ज्यादा पानी पीने से आपको बार बार पेशाब के लिए जाना पड़ सकता है जिससे की acid के स्तर को संतुलित किया जा सकता है |

अदरक

अदरक जो बाजार में और सस्भी घरो में आसानी से प्राप्त किया जा सकता है | अदरक को कच्चा खाने से रक्त संचार बढ़ाने के साथ साथ दर्द में भी राहत पहुंचता है | इसके अलावा दर्द वाले स्थान पर अदरक का तेल बनाकर लगाने से दर्द में भी आराम मिलता है |

लहसुन

गठिया के इलाज में लग्सुं सबसे महत्ब्पूर्ण भूमिका अदा करता है | लहसुन का रोजाना इस्तेमाल आप गठिया जैसे रोगों से छुटकारा पा सकते है | इसके लिए आपको सुबह खाली पेट लहसुन की 4-5 कलिया को नमक, जीरा , सौफ हिंग आदि के साथ मिलाके पिस ले और अरंडी के तेल के साथ इसको भुन ले | फिर जिस स्थान पर दर्द हो उस स्थान पर मालिश करे ऐसा करने से दर्द में आराम मिलता है |

एलोवेरा

एलोवेरा दर्द को कम करने में काफी काम आता है | इसके लिए एलोवेरा के गुदे को दर्द वाले स्थान पर लगायेओर कुछ समय तक मसाज करते रहे इससे दर्द में आराम मिलता है |

हल्दी

हल्दी में एंटी-इन्फ्लेमेंट्री गुण पाए जाते है जिसके कारण यह दर्द के काफी कारगर साबित होती है | दर्द और सुजन को कम करने के लिए आप रोजाना सोने से पहले एक चम्मच हल्दी को दूध में मिलाके सेवन करे इससे दर्द में आराम मिलता है |

यूकेलिप्टस

यूकेलिप्टस का तेल गठिया रोग में सबसे प्रभावी और लाभकारी होता है | सोने से पहले इसके तेल से दर्द वाले स्थान पर मालिश करने से दर्द कम होता है | यह गठिया का रामबाण इलाज म,माना जाता है |

बथुआ

बथुआ का रस गठिया रोग के लिए फायदेमंद माना जाता है | इसके लिए आप बथुआ के रस को रोजाना खाली पेट में पीने से दर्द से हमेशा के लिए राहत मिल जाती है |

गठिया के लिए दवाइयां – Medicine for Arthritis

बाजार में कुछ ऐसी दवाई भी मौजूद है जो गठिया रोग के उपचार में दिया जाता है |

  • मेंथौल या कैप्सायिसिन
  • इम्यूनोसप्रेसेंत

नोट :- गठिया के इलाज के लिए दवाइयां डॉक्टर के देख रेख में और उनकी सिफारिश के आधार पर लेनी चाहिए | जो इसके स्तर की गंभीरता पर निर्भर करती है |

अस्वीकरण :- इस site पर उपलब्ध सभी जानकारी और लेख केवल शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए है | यहाँ पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार हेतु बिना विशेषज्ञ की सलाह के नहीं किया जाना चाहिए | उपचार के लिए योग्य चिकित्सक का सलाह ले |

धन्यवाद !!!

Leave a Reply