Multani soil in Hindi : मुल्तानी मिट्टी के फायदे और उपयोग

Multani soil – जब बात खुबसूरत चेहरे की या चमकदार चेहरे की हो तो सबसे पहले मुल्तानी मिट्टी ( Multani soil ) का नाम आता है | चमकदार और खुबसूरत चेहरे के लिए इससे अच्छा घरेलु उपाय कुछ नहीं हो सकता है | यह बाज़ार में और सबकी घरो में पाया जाने वाला मिट्टी है और साथ ही साथ इसका उपयोग ब्यूटी पार्लर में भी होने लगा है | आपको यह जानकर आश्चर्य होगी कि मुल्तानी मिट्टी ( Multani soil) के फायदे न सिर्फ आपके शरीर त्वचा के लिए, बल्कि बालों और स्वास्थ्य के लिए भी हैं।

इस लेख में मैं आपको मुल्तानी मिट्टी के फायदे Benefits of Multani soil और उपयोग के बारे में चर्चा करेंगे साथ ही साथ इसे लगाने के तरीके के बारे में भी तरीका बताऊंगा | तो आइये अब बिना समय गवाए त्वचा , बाल और स्वास्थ्य के लिए मुल्तानी मिट्टी के फायदे के बारे में नीचे बताया गया है |

यह भी पढ़े : हल्दी दूध के फायदे और इसके उपयोग के बारे में |

Contents

मुल्तानी मिट्टी क्या है ? What is Multani soil in Hindi

.

खूबसूरती को निखारने और संवारने  के लिए मुल्तानी मिट्टी ( Multani soil) का प्रयोग प्राचीन काल से होता आ रहा है | मुल्तानी मिट्टी को इंग्लिश में फुलर्स अर्थ (fuller’s earth ) कहते हैं। मुल्तानी मिट्टी का मुख्य रूप हाइड्रेटेड एल्यूमीनियम सिलिकेट्स है |जिसमें इसके अन्दर मैग्नीशियम, सोडियम और कैल्शियम जैसे धातु के अणु होते हैं। मुल्तानी मिट्टी त्वचा से गंदगी को निकालने में मदद करती है।

मुल्तानी मिट्टी, हाइड्रेटड ऐल्युमिनियम सिलिकेट्स का रूप है। यह मिट्टी पाकिस्तान के मुल्तान में पाई जाती है इसीलिए इसका नाम इसके जन्म स्थल के नाम पर मुल्तानी रखा गया है | इसमें सिलिका , लोहा , कैल्शियम, मैग्नीशियम आदि जैसे खनिज पदार्थ पाए जाते है | ज्यादातर यह मुल्तानी मिट्टी ( Multani soil) पाउडर के रूप में मिलती है जिसका उपयोग बालो और त्वचा को निखारने में किया जाता है |

चोट लगने पर भी मुल्तानी मिट्टी का प्रयोग किया जाता है | पुराने ज़माने में जब कोई दवाई उपलब्ध नहीं थी तो चोट या घाव को ठीक करने के लिए मुल्तानी मिट्टी ( Multani soil) का ही उपयोग किया जाता था | तो आइये इसके उपयोग और फायदे के बारे में विस्तार से जानते है |

मुल्तानी मिट्टी के फायदे – Benefits of Multani soil in Hindi

स्किन के लिए फायदेमंद ( Multani soil)

मुल्तानी मिट्टी ( Multani soil) की सबसे खास और अहम् बात यह है की यह तैलीय त्वचा के बहुत ज्यादा फायदेमंद होता है | चेहरे पर से डेड स्किन को हटाने में यह बहुत ज्यादा कारगर साबित होता है | जो लोग मुहांसे और एक्ने से परेशान है वो लोग मुल्तानी मिट्टी के पैक के साथ नीम का इस्तेमाल करने से मुहांसे जैसी समस्या से छुटकारा से निजात मिलता है |

स्किन को टाईट और स्मूथ बनाने के लिए भी मुल्तानी मिट्टी ( Multani soil) का उपयोग किया जाता है | चेहरे पर जले के निशान को दूर करने के लिए मुल्तानी मिट्टी के साथ साथ निम्बू और विटामिन E के साथ लगाने से निशान गायब हो जाते है | स्किन को ग्लोविंग करने के लिए भी मुल्तानी मिट्टी ( Multani soil) का प्रयोग किया जाता है |  मुल्तानी मिट्टी का उपयोग पेडिक्योर और मेनिक्योर के बाद के पैक के लिए भी किया जाता है, इससे पैरों और हाथों की थकान दूर हो जाती है।

बालो के लिए फायदेमंद ( Multani soil)

आज से कई साल पूर्व जब शैम्पू नहीं हुआ करता था तो लोग अपने बालो में मुल्तानी मिट्टी ( Multani soil) का प्रयोग करते थे | बालो में रुसी को दूर करने के लिए और बालो में जूँ की समस्या को दूर करने के लिए मुल्तानी मिट्टी का प्रयोग किया जाता है | दो मुहें बालो और रूखेपन बालो को दूर करने के लिए इसका उपयोग किया जाता है |

पूरी तरह से बेजान बाल और बालो की चिपचिपा को दूर करने के लिए भी मुल्तानी मिट्टी का प्रयोग किया जाता है | बालो का सफ़ेद होने की समस्या को दूर करने लिए भी मुल्तानी मिट्टी का प्रयोग करना लाभदायक होता है |

तैलीय त्वचा के लिए फायदेमंद ( Multani soil)

मुल्तानी मिट्टी न सिर्फ चेहरे की गन्दगी को निकलने में मदद करती है बल्कि तैलीय और शुष्क दोनों प्रकार की त्वचा के लिए तेल उत्पादक को नियंत्रित करने का कार्य करती है | कई बार त्वचा के अत्यधिक मात्रा में तेल निकलने की बजह से रोमछिद्र बंद हो जाते है और मुहांसे जैसे समस्या उत्पन्न हो जाती है | ऐसे मे मुल्तानी मिट्टी का प्रयोग किया जाना उचित होता है क्यूंकि मुल्तानी मिट्टी अत्यधिक मात्रा में स्रावित तेल को अवशोषित करके स्किन को साफ़ रखता है |

कील- मुहांसे के लिए फायदेमंद ( Multani soil)

तैलीय त्वचा के कारण चेहरे पर कील-मुहांसे निकल ही आते है ऐसे में मुल्तानी मिट्टी का प्रयोग करके इससे बचा जा सकता है क्यूंकि यह चेहरे पर जमा तेल को अवशोषित करने का गुण होता है | इससे आपकी त्वचा की गन्दगी बाहर निकलती ही है और साथ ही साथ कील-मुहांसे को दुबारा आने की सम्भावना कम हो जाती है |

सेहत के लिए फायदेमंद ( Multani soil)

मुल्तानी मिट्टी सेहत के लिए भी फायदेमंद होता है , यह रक्त प्रवाह को तेज़ करता है | अत्यधिक गर्मी में ठंडक लाने के लिए भी इसका उपयोग किया जाता है | कही पर चोट लगना या शरीर में कहीं भी एलर्जी हो तो मुल्तानी मिट्टी के इस्तेमाल से इस समस्या को दूर किया जाता है | तनाव को कम करने में मुल्तानी मिट्टी बहुत फायदेमंद होती है |

मुल्तानी मिट्टी के अन्य फायदे – Other benefits of Multani soil

Jaggery face mask to get a lustrous look on a brown surface consisting of jaggery or gud, Multani mitti, and curd.
  • दाग-धब्बो को दूर करने में फायदेमंद
  • त्वचा को साफ़ करने में
  • जलने कटने के निशान को दूर करने में फायदेमंद
  • ब्लैकहेड्स और वाइटहेड्स को दूर करने में फायदेमंद
  • त्वचा के गोरेपन के लिए फायदेमंद
  • रुसी दूर करने में फायदेमंद
  • दो मुहें बालो को दूर करने में फायदेमंद

मुल्तानी मिट्टी के उपयोग के कुछ रोचक तथ्य – Some facts of Multani soil in Hindi

मुल्तानी मिट्टी ( Multani soil) के कोई ज्यादा साइड इफ़ेक्ट नहीं है लेकिन कुछ सावधानी बरतना भी जरुरी होता है | नीचे हम इसी बातो की जानकारी विस्तार से बता रहा हूँ |

  • हमेशा अच्छे ब्रांड के मुल्तानी मिट्टी ( Multani soil) का चुनाव करे
  • मुल्तानी मिट्टी को हमेशा ठन्डे जगह पर रखे
  • चेहरे पर मुल्तानी मिट्टी लगाते समय यह ध्यान रहे की मुहं में न जाये , इससे किडनी में स्टोन होने का खतरा बन जाता है |
  • रुखी त्वचा बालो थोडा संभल कर इस्तेमाल करे क्यूंकि यह त्वचा को और अधिक रुखा बना सकता है |
  • मुल्तानी मिट्टी ठंडा होती है इसीलिए सर्दी या ठण्ड के मौसम में इसका उपयोग ज्यादा नहीं करना चाहिए | नहीं तो सर्दी-बुखार जैसी समस्या उत्पन्न हो सकती है |

Frequently Asked Questions | FAQs Benefits of multani soil

क्या मुल्तानी मिट्टी को रोजाना इस्तेमाल किया जा सकता है?

हां, अगर त्वचा तैलीय है तो मुल्तानी मिट्टी का पैक हर दूसरे दिन लगाया जा सकता है। आपको नींबू के रस का उपयोग करने की आवश्यकता नहीं है; गुलाब जल का उपयोग करके मिलाएं। चूँकि आपकी तैलीय त्वचा है, इसलिए सप्ताह में दो या तीन बार, सुबह फेस वाश या साबुन से साफ़ करने के बाद स्क्रब का उपयोग करें। … यह एस्ट्रिंजेंट-टोनर तैलीय त्वचा पर सूट करेगा।

कितने मिनट में मुल्तानी मिट्टी लगानी चाहिए?

चरण 1 – 1 बड़ा चम्मच मुल्तानी मिट्टी में पर्याप्त गुलाब जल और नींबू का रस मिलाकर एक चिकना पेस्ट बनाएं। स्टेप 2 – इसे अपने चेहरे पर लगाएं और 15-20 मिनट के लिए छोड़ दें। स्टेप 3 – ठंडे पानी से धो लें। चरण 4 – सर्वोत्तम परिणामों के लिए, पैक को सप्ताह में दो बार लगाएं।

मुल्तानी मिट्टी का क्या फायदा है?

मुल्तानी मिट्टी त्वचा से अतिरिक्त तेल, गंदगी, सीबम, पसीना और अशुद्धियों को दूर करने में सक्षम है, जिसका अर्थ है कि यह अंदर से छिद्रों को साफ करने में सहायक है, जो मुंहासों और फुंसियों को रोकने में मदद करता है। सुपर ऑयली त्वचा वालों के लिए, मिट्टी अतिरिक्त तेल को अवशोषित करने और ब्लैकहेड्स को बाहर निकालने में सक्षम है।

मुल्तानी मिट्टी का उपयोग किस उद्देश्य के लिए किया जाता है?

मुल्तानी मिट्टी के लाभ के लिए छवि परिणाम अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न
सदियों से, फुलर की पृथ्वी, या मुल्तानी मिट्टी का उपयोग स्वच्छ, उज्ज्वल और पुनर्जीवित त्वचा के लिए एक सर्वोत्कृष्ट भारतीय घरेलू उपचार के रूप में किया जाता रहा है। यह सक्रिय तत्वों के साथ एक शक्तिशाली हीलिंग क्ले है जो संचित सीबम, पसीने, तेल और गंदगी को बंद छिद्रों से अवशोषित करता है।

क्या मुल्तानी मिट्टी के साइड इफेक्ट हैं?

क्या मुल्तानी मिट्टी के कोई दुष्प्रभाव हैं? ए. मुल्तानी मिट्टी में उच्च अवशोषण शक्ति होती है जो त्वचा को निर्जलित छोड़ सकती है। जैसे, अत्यधिक उपयोग की अनुशंसा नहीं की जाती है, खासकर शुष्क या बहुत संवेदनशील त्वचा वाले लोगों के लिए।

मुल्तानी मिट्टी खाने के क्या दुष्प्रभाव हैं?

लंबे समय तक मिट्टी खाने से पोटेशियम और आयरन का स्तर कम हो सकता है। यह सीसा विषाक्तता, मांसपेशियों में कमजोरी, आंतों में रुकावट, त्वचा के घाव या सांस लेने में समस्या भी पैदा कर सकता है।

क्या मुल्तानी मिट्टी पिंपल को दूर कर सकती है?

इससे पिंपल्स, व्हाइटहेड्स, ब्लैकहेड्स आदि हो सकते हैं। बैक्टीरिया के संक्रमण और एंड्रोजन हार्मोन की अत्यधिक गतिविधि के कारण भी मुंहासे हो सकते हैं। इस त्वचा की समस्या से छुटकारा पाने के लिए, आप मुल्तानी मिट्टी का उपयोग कर सकते हैं क्योंकि यह मैग्नीशियम क्लोराइड से भरी हुई है, जो संभावित रूप से मुँहासे से लड़ सकती है और ब्रेकआउट की शुरुआत को रोक सकती है।

क्या मुल्तानी मिट्टी टैन हटाती है?

मुल्तानी मिट्टी (जिसे फुलर अर्थ भी कहा जाता है) धूप से झुलसने को शांत और शांत करती है। यह टैन भी हटाता है और आपकी त्वचा को चमकदार बनाता है। मुल्तानी मिट्टी में गुलाब जल के अलावा आप चंदन, हल्दी, टमाटर का रस, नीबू का रस, दूध और शहद भी मिला सकते हैं।

क्या बालों के लिए मुल्तानी मिट्टी का प्रयोग किया जा सकता है?

मुल्तानी मिट्टी, जिसे फुलर्स अर्थ के नाम से भी जाना जाता है, एक ऐसी मिट्टी है जिसमें त्वचा और बालों के लिए सफाई के लाभ होते हैं। इसकी स्वाभाविक रूप से शोषक गुण आपकी त्वचा पर कोमल रहते हुए आपके बालों को तेल से साफ करने की अनुमति देते हैं। इसे आपके बालों को साफ और कंडीशन करने के लिए हेयर मास्क बनाया जा सकता है।

क्या मुल्तानी मिट्टी एक्सपायर होती है?

कच्ची मुल्तानी मिट्टी की कोई एक्सपायरी डेट नहीं होती है। हालांकि, आपको इसे ठंडी, सूखी जगह पर स्टोर करना होगा। व्यावसायिक रूप से उपलब्ध पैक पानी और रसायनों के साथ मिश्रित होते हैं। इसलिए, चेहरे या बालों पर लगाने से पहले उनकी समाप्ति तिथि की जांच करना सबसे अच्छा है।

क्या हल्दी को मुल्तानी मिट्टी के साथ इस्तेमाल कर सकते हैं?

दो चम्मच मुल्तानी मिट्टी में एक चुटकी हल्दी पाउडर और आधा चम्मच चंदन पाउडर मिलाएं। नींबू के रस के साथ एक चिकना पेस्ट बनाएं (त्वचा के प्रकार के आधार पर दूध डालें)। इस फेस पैक को अपने चेहरे पर लगाएं और सूखने तक लगा रहने दें।

क्या मैं मुल्तानी मिट्टी को रात भर छोड़ सकता हूँ?

आपको मुल्तानी मिट्टी का फेस पैक रात भर नहीं छोड़ना चाहिए क्योंकि यह त्वचा को सभी आवश्यक तेलों से दूर कर सकता है और इसे बुरी तरह से सूखा छोड़ सकता है। हालांकि, इसे स्पॉट ट्रीटमेंट के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है और रात भर छोड़ दिया जाता है।

मुल्तानी मिट्टी लगाने के बाद हमें चेहरे पर क्या लगाना चाहिए?

हां, रूखी त्वचा होने पर आप अपनी त्वचा को नम करने के लिए मुल्तानी मिट्टी लगाने के बाद मॉइस्चराइजर लगा सकते हैं और अगर आपकी तैलीय त्वचा है तो आप मॉइस्चराइजर लगाने से बच सकते हैं और इसके बजाय बस थोड़ा सा गुलाब जल लगा सकते हैं।

क्या मुल्तानी मिट्टी झुर्रियों का कारण बनती है?

मुल्तानी मिट्टी के इस्तेमाल से आपको झुर्रियां पड़ सकती हैं
वास्तव में, जितना अधिक आप मुल्तानी मिट्टी जैसे सुखाने वाले उत्पादों का उपयोग करते हैं – उतना ही अधिक जगह आप लाइनों और झुर्रियों को बसने के लिए दे रहे हैं। जब मुल्तानी मिट्टी त्वचा पर सूख जाती है, तो यह आपके चेहरे को बहुत मुश्किल बना देती है और आप अपने पर एक टग महसूस करते हैं त्वचा। यह आपकी त्वचा में खिंचाव है।

मुझे कैसे पता चलेगा कि मेरी मुल्तानी मिट्टी असली है?

मुल्तानी मिट्टी की पहचान कैसे करें। असली मुल्तानी मिट्टी या मुल्तानी मिट्टी को पहचानने की तरकीब उसके रंग और गंध से है। यह आमतौर पर क्रीम से टैन रंग का होता है और इसमें ताजी, गंदी गंध होती है। इन दिनों, आप विभिन्न कॉस्मेटिक ब्रांडों द्वारा पेश किए गए तैयार किए गए मुल्तानी मिट्टी के पैक भी खरीद सकते हैं, अगर आपको असली सौदा नहीं मिलता है।

क्या मुल्तानी मिट्टी बालों का झड़ना रोकती है?

फॉलिकल्स को मजबूत करता है। मुल्तानी मिट्टी की समृद्ध खनिज सामग्री न केवल एक स्वस्थ खोपड़ी का वादा करती है, बल्कि यह बालों को पोषण और सुरक्षा देने का भी काम करती है। यह सूखे बालों को हाइड्रेट करता है लेकिन जड़ों से भी काम करता है और आपके बालों के रोम को मजबूत करता है। … मुल्तानी मिट्टी बालों को मजबूत बनाने में भी मदद करती है।

हमें उम्मीद है कि मुल्तानी मिट्टी के फायदे जानने के बाद इसे उपयोग करने की आपकी दिलचस्पी बढ़ गई होगी। उम्मीद है कि इस लेख में दी गई जानकारी आपके लिए मददगार साबित होगी। यह लेख पसंद आया हो, तो इसे अपने परिवार और दोस्तों के साथ साझा करना न भूलें।

अस्वीकरण :- इस site पर उपलब्ध सभी जानकारी और लेख केवल शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए है | यहाँ पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार हेतु बिना विशेषज्ञ की सलाह के नहीं किया जाना चाहिए | उपचार के लिए योग्य चिकित्सक का सलाह ले |

Leave a Comment