Black fungus symptoms in Hindi : ब्लैक फंगस के लक्षण, पहचान और बचाव

 48 total views,  1 views today

Black fungus symptoms :- जिन लोगो में इम्युनिटी की कमी या इम्युनिटी कमजोर पाया जाता है ज्यादातर ब्लैक फंगस उन्ही लोगो पर अटैक कर रहा है | और वैसे लोग जो पहले से कोरोना से संक्रमित है या संक्रमित होकर ठीक हो चुके है वैसे लोगो में ये लक्षण देखने को मिल रहे है |

अभी भारत कोरोना की दूसरी लहर से जूझ रहा है और इसी बीच एक और बीमारी ने दस्तक देकर अपना पैर पसार रही है जिसका नाम Black Fungus ( Mucormycois ) है | डॉक्टर्स के मुताबिक कोरोना के संक्रमण से ठीक हो रहे लोगो में यह लक्षण देखने को मिल रहे है | इस ब्लैक फंगस के संक्रमण के कारण कई लोगो को आँखों की रौशनी चली गयी है | तो आइये Black fungus symptoms : ब्लैक फंगस के लक्षण, पहचान और बचाव के बारे में नीचे विस्तार से जानते है |

यह भी पढ़े :- कोरोना के लक्षण क्या है और इससे कैसे बचना चाहिए |

Content :

  1. ब्लैक फंगस ( Mucormycois ) क्या है ? What is black fungus in Hindi
  2. ब्लैक फंगस के प्रकार – Types of Black fungus in Hindi
  3. ब्लैक फंगस के लक्षण – Symptoms of Black fungus in Hindi
  4. ब्लैक फंगस के पहचान कैसे करे – How to identify black fungus in Hindi
  5. ब्लैक फंगस के बचाव का तरीका – Protection from black fungus in Hindi

ब्लैक फंगस ( Mucormycois ) क्या है ? What is black fungus in Hindi

ब्लैक फंगस एक दुर्लभ फंगल इन्फेक्शन है जो Black fungus में मौजूद Group of molds के कारण उत्पन्न होता है | ये ब्लैक फंगल पुरे वातावरण में मौजूद होते है जो विशेष कर मिट्टी और सड़ने वाले पदार्थ जैसे – खाद , पत्तियां ,लकड़ियाँ आदि में पाए जाते है और इसके संपर्क में आने पर ब्लैक फंगस जैसी खतरनाक बीमारी की चपेट में आ जाते है |

ब्लैक फंगस खासतौर पर ऐसे लोगो में पाए जा रहे है जो अभी कोरोना की चपेट में है , या कोरोना संक्रमण से ठीक हो चुके है या जिन्हें स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्या रहती है इसके शिकार हो रहे है | और वैसे लोग जो किसी बीमारी के लिए भारी पॉवर के दवाई का इस्तेमाल करते आ रहे है उनमे ये लक्षण पाए जा सकते है क्यूंकि ज्यादा पॉवर की दवाई खाने से रोग प्रतिरोधक क्षमता कम हो जाती है और ऐसे बीमारी के चपेट में आ जाते है |

ब्लैक फंगस क्या है शायद आपको समझ में आ गया होगा | अब आगे की लेख में ब्लैक फंगस के कितने प्रकार है इसके बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे , जिसे नीचे विस्तार से बताया गया है |

ब्लैक फंगस के प्रकार – Types of Black fungus in Hindi

ब्लैक फंगस साधारणतः 4 प्रकार के पाए जाते है |

  • राईनोसेरेब्रल ब्लैक फंगस
  • त्वचीय ब्लैक फंगस
  • लंग्स ब्लैक फंगस
  • जठरांत्र सम्बन्धी ब्लैक फंगस
  • राईनोसेरेब्रल ब्लैक फंगस

राईनोसेरेब्रल फंगस के द्वारा उत्पन्न एक ऐसा संक्रमण है जो मस्तिष्क में फैलता है और यह आगे चलकर एक गंभीर बीमारी के रूप में दिखाई देती है | यह मधुमेह से पीड़ित लोग या जो लोग किडनी ट्रांसप्लांट करा चुके है वैसे लोगो में यह ब्लैक फंगस के प्रकार पाए जाते है |

  • त्वचीय ब्लैक फंगस

यह एक ऐसा फंगल है जो त्वचा में किसी वजह से शरीर में प्रवेश कर जाता है और अन्दर ही अन्दर यह पुरे शरीर में फैलते चला जाता है | यह फंगस होने का मुख्य कारण जैसे – सर्जरी के बाद, त्वचा के जलने के बाद , किसी भी प्रकार से त्वचा में चोट लगने के बाद या ज्यादा पुराना घाव के रहने के कारण हो सकता है |

  • लंग्स ब्लैक फंगस

वैसे लोग जो कैंसर की बीमारी से जूझ रहे है वैसे लोगो में यह बीमारी साधारणतः देखने को मिल सकता है | कैंसर से ग्रसित लोग, जो लोग ऑर्गन ट्रांसप्लांट कराये है वैसे लोगो में इसका खतरा बना रहता है |

  • जठरांत्र सम्बन्धी ब्लैक फंगस

जठरांत्र सम्बन्धी ब्लैक फंगस व्यस्को की तुलना में छोटे बच्चो में ज्यादा देखने को मिलते है | वैसे शिशु जो विशेष रूप से 1 माह से कम है या जन्म के समय जिन शिशु का बजन कम होता है वैसे शिशु में इसका खतरा बना रहता है क्यूंकि इसके पास रोगो से लड़ने की क्षमता कम होती है

ब्लैक फंगस के लक्षण – Symptoms of Black fungus in Hindi

कैसे समझे की ब्लैक फंगस ने अटैक कर दिया है ? आइये जानते है –

  • सिर में दर्द होना
  • नाक में दिक्कत महसूस होना
  • चेहरा सुन्न पड़ जाना
  • चेहरे के एक हिस्से में दर्द महसूस होना
  • पलके में सुजन आना
  • चेहरे का रंग बदल जाना
  • दांत में दिक्कत आना , आदि

अगर ब्लैक फंगस आपके फेफड़े पर अटैक कर देता है तो ये लक्षण दखने को मिल सकते है |

  • बुखार आना
  • कफ जमा होना
  • साँस लेने में दिक्कत होना
  • धुंधला दिखाई देना
  • कफ में खून आना
  • सिने में दर्द उत्पन्न होना , आदि

आपके साथ ये लक्षण दिखे तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करे | तुरंत ट्रीटमेंट कराने पर या जल्दी ठीक होने का चांस रहता है | मेडिसिन के द्वारा भी इसे ठीक किया जा सकता है | कई कई मौके पर सर्जरी भी करना पड़ सकता है | इसीलिए ऐसा लक्षण दिखे तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करे |

ब्लैक फंगस के पहचान कैसे करे – How to identify black fungus in Hindi

ऐसे लोग जो पहले से किसी बीमारी से ग्रसित है वैसे लोगो में ये खतरा बना रहता है | मधुमेह से पीड़ित मरीजो में यह खतरा ज्यादा बना रहता है | अगर आपको नाक में दिक्कत महसूस होता है , पलके में सुजन आ जाता है , साँस लेने में दिक्कत महसूस होता है या फिर आँखों से धुंधला दिखाई देता है तो यह ब्लैक फंगस के लक्षण हो सकते है | इसे अनदेखा न करे तुरंत डॉक्टर से संपर्क करे ताकि सही समय पर इसका ईलाज शुरू हो सके और फर्स्ट स्टेज में ही इस बीमारी से निजात पा सके |

ब्लैक फंगस के बचाव का तरीका – Protection from black fungus in Hindi

ब्लैक फंगस के रोकथाम के लिए 3 चीज बहुत महत्ब्पूर्ण होता है | 1. सुगर कण्ट्रोल अच्छा होना चाहिए | 2. स्टेरॉयड कब देने हैं इसके लिए सावधान रहना चाहिए 3. स्टेरॉयड की हल्की या मध्यम डोज देनी चाहिए।

  • ब्लैक फंगस को रोकने के कोविद -19 से संक्रमित और जो ठीक हो चुके है और मधुमेह से पीड़ित रोगियों को अपना ब्लड ग्लूकोज के लेवल की निगरानी समय समय पर कराते रहना चाहिए |
  • स्टेरॉयड के उपयोग का सही समय , खुराक , और कितनी मात्रा में देनी चाहिए इसकी सही जानकारी होनी चाहिए |
  • एंटीबायोटिक्स और एंटीफंगल दवाओ का सही उपयोग किया जाना चहिये |

मैं उम्मीद करता हूँ की आपको मेरी ये पोस्ट Black fungus symptoms ( ब्लैक फंगस के लक्षण, पहचान और बचाव ) को अच्छी तरह समझ गए होंगे | अगर आपको मेरी ये पोस्ट अच्छी लगी होगी तो इसे ज्यादा से ज्यादा शेयर करे ताकि उन लोगो को भी ये जानकारी मिल सके |

धन्यवाद !!!

अस्वीकरण :- इस site पर उपलब्ध सभी जानकारी और लेख केवल शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए है | यहाँ पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार हेतु बिना विशेषज्ञ की सलाह के नहीं किया जाना चाहिए | उपचार के लिए योग्य चिकित्सक का सलाह ले |

2 thoughts on “Black fungus symptoms in Hindi : ब्लैक फंगस के लक्षण, पहचान और बचाव”

Leave a Reply

%d bloggers like this: